प्रस्तावना

पर्यटन और आतिथ्या सबसे अधिक रोजगार सृजन के क्षेत्र हैं। जो देश के सकल घरेलू उत्पाणद (जी.डी.पी.) में महत्वनपूर्ण योगदान देते हैं। अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्री य गंतव्य स्थालों के बीच एक तीव्र प्रतिस्पर्धा है और सेवाओं की गुणवत्ता भी गंतव्यअ की पसंद में एक प्रमुख कारक है। इसके लिए प्रशिक्षित मानव संसाधन के साथ-साथ उद्यमियों और इग्नू् की ओर से 1994 से इस दिशा में महत्वशपूर्ण योगदान दिया जा रहा है, इसकी शुरूआत तब हुई जब पर्यटन कार्यक्रमों को पहली बार सामाजिक विज्ञान विद्यापीठ में प्रमाणपत्र से पीएच.डी. स्तरर तक शुरू किया गया था।

पर्यटन और आतिथ्य सेवा प्रबंधन विद्यापीठ (एस.ओ.टी.एच.एस.एम.) 2007 में अस्तित्व् में आया। आज विद्यापीठ पूर्ण अनुसंधान पर जोर देने और सामाजिक और औद्योगिक जरूरतों को पूरा करने पर कई तरह के कार्यक्रम प्रस्तु त करता है। यह विभ्ज्ञिन्न स्तोरों पर स्व तंत्र रूप से और राष्ट्री य और अंतर्राष्ट्री्य संस्था नों/संगठनों/उद्योग के सहयोग से प्रशिक्षण कार्यक्रमों, उद्यमशीलता विकास कार्यक्रमों और प्रबंधन विकास कार्यक्रमों के निर्माण की क्षमता के अवसर प्रदान करने के लिए भी खुला है। विद्यापीठ का प्रमुख सहयोग नेशनल काउंसिल ऑाफ होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोनलॉजी (एन.सी.एच.एम.सी.टी.) के साथ है, जिसमें एम.एससी. और बीएससी. कार्यक्रम 2002 के बाद से दोहरी पद्धति के माध्यबम से प्रदान किए जाते हैं।

आज, इग्नूं में 20,000 से अधिक छात्र पर्यटन और आतिथ्य0; दोनों कार्यक्रमों में नामांकित हैं। ये कार्यक्रम पर्यटन और आतिथ्यइ उद्योग , उद्योग संघों और शिक्षाविदों के विशेषज्ञतापूर्ण परामर्श से विकसित किए गए हैं। दूरस्थ् और सीमांत क्षेत्रों में इन कार्यक्रमों को पहुँचाने पर विशेष ध्याून दिया गया है; गंतव्यं क्षेत्र और विदेशी केंद्रों में भी।